,

जानिए देश के पिछले 5 झंडे – 6 बार बदलने के बाद राष्ट्रीय ध्वज बना तिरंगा!

चलिए जानते है उन झंडों के बारे में जो तिरंगे से पहले बदले गये!

भारत का राष्ट्रीय ध्वज तिरंगे को लहराता देखकर हर देश वाशी की छाती गर्व से चौड़ी हो जाती है तिरंगा हमारे भारत देश की राष्ट्रीय गौरव का प्रतीक है महात्मा गाँधी ने कहा था की – “हमारे लिए यह अनिवार्य होगा की हम भारतीय, मुस्लिम, ईसाई, फारसी, और अन्य सभी के लिए भारत एक घर है एक ही ध्वज के लिए मान्यता दे और इसके लिए मरमिटेंगे”

भारत का राष्ट्रीय ध्वज केशरिया, सफ़ेद और हरे रंग की पट्टीयों से मिलकर बने इस ध्वज को अपने वर्तमान स्वरूप तक पहुँचने में कई परिवर्तन के दौर का सामना करना पड़ा हमेशा आसमान से बाते करने वाला हमारा राष्ट्रीय ध्वज को सिर्फ राष्ट्रीय शोक के अवसर पर ही आधा झुकाया जाता है

#1. भारत का पहला झंडा

भारत का पहला झंडा 7 अगस्त 1906 में कलकत्ता के फारसी बागन स्कवायर में फहराया गया था

#2. भारत का दूसरा झंडा

भारत का दूसरा झंडा मैडम कामा निर्वासित क्रांतिकारियों और उनके संगठन ने पेरिस में फहराया था

#3. भारत का तीसरा झंडा

1917 को होमरूल मूवमेंट के समय डॉ.एनी बेसेंट और लोकमान्य तिलक ने इस भारतीय झंडे को फहराया था

#4. भारत का चौथा झंडा

देश को एकजुट करने के लिए भारत के चौथे झंडे को पिंगली वैंकेया ने 1916 में बनाया था इस झंडे पर गांधीजी द्वारा चरखे का एक चित्र बनवाया था जिसे गाँधीजी ने 1921 में फहराया था

#5. भारत का पांचवा झंडा

भारत की राष्ट्रीय कांग्रेस कमेटी की बैठक में भारत के इस तिरंगो झंडे को सन 1921 में राष्ट्रीय ध्वज के रूप में मान्यता दी गयी

#6. भारत का छठा और आखरी राष्ट्रीय ध्वज

1921 में मान्यता प्राप्त भारत के पांचवें राष्ट्रीय ध्वज में कुछ बदलाव करके आज़ाद भारत के लिए संविधान सभा ने भारतीय झंडे के रूप में स्वीकार कर लिया जिसमे सिर्फ चरखे की जगह अशोक चक्र को शामिल किया गया

तो दोस्तों ये था हमारा आज का आर्टिकल जिसमे हमने आपको भारत के उन झंडों के बारे में बताया जिसमे पांच बार बदलाव करने के बाद राष्ट्रीय ध्वज बनाया गया हमे उम्मीद है की आपको हमारा आज आर्टिकल पसंद आया होगा इसे लाइक और शेयर ज़रूर करे

जरूर पढ़े:  आपके बैठने का तरीका आपके व्यक्तित्व के बारे में क्या दर्शाता है - जानिए आपके व्यक्तित्व के बारे में!

ऐसी 5 सच्ची घटनाएँ जिन्हें आप जीवन में मरते दम तक नहीं भूल सकते – 1 नंबर की घटना पर तो सब करते है बहुत यकीन!

ज़रूर जानिए ये 3 शब्द आई लव यू बोलने से भी ज्यादा असरदार है – क्या आपने बोले है कभी ये 3 शब्द किसी को!