,

ज़रुर सबक लें उपभोक्ता फोरम के इस फैसले से ATM उपयोग करने वाले – यदि आप एटीएम उपयोग कर रहे है तो सावधान हो जाइये!

बिना सीसीटीवी कैमरा के एटीएम से पैसे निकाल रहे है तो सावधान हो जाईये!

सरकार लोगों के सुविधा और समय को बचाने के लिए सभी सेवाएं डिजिटल तो कर रही है लेकिन डिजिटल सेवाओं के पीछे ग्राहकों की मेहनत की कमाई पर चुना लग रहा है यदि आप एटीएम उपयोग कर रहे है और बिना सीसीटीवी कैमरा के एटीएम से पैसे निकाल रहे है तो सावधान हो जाईये अन्यथा आपके बैंक अकाउंट से पूरी राशि गायब हो सकती है

आज हम आपको कुछ ऐसे ही घटना के बारे में बताने जा रहे है जो खरोरा रायपुर के रहने वाले मुकेश कुमार निषाद के साथ घटी है मुकेश के अनुसार वे दो बार एटीएम से पैसे निकलने गये लेकिन दोनों बार पैसा नही निकला इसके बावजूद पासबुक में राशि निकलने का बताया गया

जिला फोरम ने प्रकरण की जाँच करते हुए अनावेदक बैंक को दोषी पाते हुए ग्राहक के खाते से निकाली गयी पूरी राशि सहित नौ फीसदी ब्याज के साथ मानसिक क्षतिपूर्ति और वादव्यय के रूप में 5000 रूपये अनावेदक को देने का फैसला सुनाया

ग्राहक से बैंक ने लगवाये सिर्फ चक्कर

ग्राहक का छत्तीसगढ़ ग्रामीण बैंक खरोरा में सेविंग खाता है जब ग्राहक 4 मार्च और 10 अप्रैल को बैंक एटीएम से 15 हजार रूपये निकालने गया तब दोनों बार ना तो पैसे निकले और ना ही स्लिप जबकि 30 मई 2015 को पासबुक में एंट्री करवाई गयी तो दोनो तारीखों में पैसे निकलने के बारे में बताया गया

ग्राहक ने जब इस बात की शिकायत बैंक में की तो ग्राहक को सिर्फ बैंक के चक्कर लगवाया गया मामले की जाँच करने पर जिला फोरम ने ग्राहक के हक़ में फैसला सुनाया और जिसमे बैंक को अनुचित व्यापार का दोषी पाया गया क्योंकि ग्राहक ने बैंक से पैसे नही निकलने की शिकायत बैंक को दी थी

साथ ही एटीएम के टोल फ्री नंबर टाटा इंडीकैश पर शिकायत करते हुए कई बार सम्पर्क भी किया इसके बावजूद भी बैंक द्वारा ग्राहक की समस्या का निराकरण नही किया गया

नही मिला सीसीटीवी का रिकॉर्ड

ग्राहक द्वारा एटीएम से पैसे नही निकलने की शिकायत की गयी थी लेकिन जब संबंधित एटीएम कंपनी से सीसीटीवी की मांग की गयी तो कंपनी का यह कहना है की प्रकरण काफी पुराना है जानकारी नही मिल पायेगी यह बात कहीं न कहीं ग्राहक की सेवा में कमी को दर्शाती है

इसके अलावा संबंधित बैंक और एटीएम कंपनी द्वारा किसी भी प्रकार का कोई भी डॉक्यूमेंट फोरम में पेश नही किया गया जिससे यह साफ पता चल रहा है की अनावेदक की खामी प्रकरण में दिख रही है जिसका खामियाजा ग्राहक क्यों भुगते

इसलिए उपरोक्त सूचना और विवरण के आधार पर उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम 1986 की धारा 12 के अंतर्गत ग्राहक अनावेदक से निकाली गयी राशि पाने का अधिकारी है

तो दोस्तों कैसा लगी आपको हमारी आज की पोस्ट जिसमे हमने आपको बहुत ही महत्वपूर्ण जानकारी के बारे में बताया हमे उम्मीद है की आपको हमारी पोस्ट पसंद आयी होगी जिसे आप अपने दोस्तों के साथ ज़रुर शेयर करे साथ ही आप हमे कमेंट करके अपने सुझाव भी दे सकते है    

जरूर पढ़े:  दुनिया के सबसे खतरनाक 5 हाईवे जिनपर जाने से हर कोई डरता है - देखिये ज़रुर!

नेपाल की इन अभिनेत्रियों को अभी भी लोग भारतीय समझते है – नंबर 1 तो रह चुकी है अपने समय की टॉप एक्ट्रेस!

एशिया कप में भारत और पाकिस्तान का 11 बार हुआ है सामना – जानिए किसका है पलड़ा भारी!